धार्मिक यात्रा

वैष्णो देवी यात्रा – Vaishno Devi Yatra

लेख सारिणी

वैष्णो देवी यात्रा – Vaishno Devi Yatra

वैष्णो देवी, जिन्हें माता रानी, ​​त्रिकुटा और वैष्णवी के रूप में भी जाना जाता है, हिंदू देवी, माता आदि शक्ति की एक अभिव्यक्ति हैं, जिन्हें महालक्ष्मी / मातृ देवी भी कहा जाता है। “माँ” और “माता” शब्द आमतौर पर “माँ” के लिए भारत में उपयोग किए जाते हैं, और इसी लिए भक्त वैष्णो देवी को माता या माँ कह कर पुकारते हैं। श्री माता वैष्णो देवी जी की पवित्र तीर्थ यात्रा सबसे पवित्र तीर्थों में से एक माना जाता है।

दुनिया भर में लोकप्रिय मन की मुराद पूरी करने वली माता, जिसका अर्थ है, माता जो अपने बच्चों की जो भी इच्छाएं हो वो पूरी करती हैं, श्री माता वैष्णो देवी जी त्रिकुटा नाम की तीन चोटी वाले पर्वत में स्थित एक पवित्र गुफा में निवास करती हैं। पवित्र गुफा हर साल लाखों भक्तों को आकर्षित करती है। पवित्र तीर्थ पर जाने वाले यत्रियों की संख्या एक करोड़ से भी अधिक है। यहाँ देश और विदेश के सभी हिस्सों से लोग आते है और माता के दर्शन आनंद का लाभ लेते है। यह भारत में तिरुमला वेंकटेश्वर मंदिर के बाद दूसरा सर्वाधिक देखा जाने वाला धार्मिक तीर्थस्थल है।

वैष्णो देवी कहाँ स्थित है  – Vaishno Devi Location

वैष्णो देवी मंदिर एक हिंदू मंदिर है, जो भारत के जम्मू और कश्मीर राज्य के त्रिकुट पर्वत पर कटरा में स्थित है। माता की पवित्र गुफा 5200 फीट की ऊँचाई पर स्थित है। यत्रियों को कटरा में बेस कैंप से लगभग 12 किमी की दूरी चढाई कर के पर करना पड़ता है। उनकी तीर्थयात्रा के समापन पर, गर्भगृह, पवित्र गुफा के अंदर मातृदेवी के दर्शन के दर्शन होते है।

vaishno-devi

माता रानी माँ वैष्णो देवी मंदिर का इतिहास – Vaishno Devi Temple History

कई पुराने तीर्थस्थलों की तरह, यह पता लगाना संभव नहीं है कि पवित्र तीर्थ की शुरुआत कब हुई थी। पवित्र गुफा के भूवैज्ञानिक अध्ययन ने इसकी आयु लगभग एक मिलियन वर्ष होने का अनुमान जताया है। पर्वत त्रिकुटा का उल्लेख ऋग्वेद में मिलता है, जो कि चार वेदों में सबसे प्राचीन है। शक्ति की पूजा करने की प्रथा, मुख्य रूप से पुराणिक काल में शुरू हुई थी।

देवी का पहला उल्लेख महाकाव्य महाभारत में मिलता है। जब श्रीकृष्ण की सलाह पर पांडवों और कौरवों की सेनाओं को कुरुक्षेत्र के युद्ध के मैदान में उतारा गया, तब पांडवों के प्रमुख योद्धा अर्जुन ने देवी माँ का ध्यान किया और विजय के लिए उनका आशीर्वाद माँगा।

आमतौर पर यह भी माना जाता है कि पांडवों ने सबसे पहले कोल कंदोली और भवन में माता देवी के प्रति श्रद्धा और कृतज्ञता ज्ञापित की थी। एक पर्वत पर, सिर्फ त्रिकुटा पर्वत से सटे और पवित्र गुफा के दृश्य पाँच पत्थर की संरचनाएँ हैं, जिन्हें पाँचों पांडवों की चट्टान का प्रतीक माना जाता है।

कुछ परंपराएं इस तीर्थ को सभी शक्तिपीठों का पवित्रतम स्थान मानती हैं (जहां माता सती की खोपड़ी गिरी थी, वहां से मातृ देवी, सनातन ऊर्जा का निवास है)। दूसरों का मानना ​​है कि उसका दाहिना हाथ यहाँ गिर गया था। लेकिन कुछ शास्त्र इससे सहमत नहीं हैं। वे इस बात से सहमत हैं कि कश्मीर में गांदरबल नामक स्थान पर सती का दाहिना हाथ गिरा था। फिर भी, श्री माता वैष्णो देवीजी की पवित्र गुफा में, मानव हाथ के पत्थर के आकर के अवशेष मिलते हैं, जिसे लोकप्रिय रूप से वरद हस्त (वह हाथ जो वरदान और आशीर्वाद देता है) के रूप में जाना जाता है।

माता वैष्णो देवी कि कथा – Vaishno Devi Story

वैष्णो देवी माता की प्रथम कथा – Vaishno Devi Mata

मान्यतानुसार एक बार पहाड़ों वाली माता ने अपने एक परम भक्तपंडित श्रीधर की भक्ति से प्रसन्न होकर उसकी लाज बचाई और पूरे सृष्टि को अपने अस्तित्व का प्रमाण दिया। वर्तमान कटरा कस्बे से 2 कि.मी. की दूरी पर स्थित हंसाली गांव में मां वैष्णवी के परम भक्त श्रीधर रहते थे। वह नि:संतान होने से दु:खी रहते थे। एक दिन उन्होंने नवरात्रि पूजन के लिए कुँवारी कन्याओं को बुलवाया। माँ वैष्णो कन्या वेश में उन्हीं के बीच आ बैठीं। पूजन के बाद सभी कन्याएं तो चली गई पर माँ वैष्णो देवी वहीं रहीं और श्रीधर से बोलीं- ‘सबको अपने घर भंडारे का निमंत्रण दे आओ।’ श्रीधर ने उस दिव्य कन्या की बात मान ली और आस – पास के गाँवों में भंडारे का संदेश पहुँचा दिया। वहाँ से लौटकर आते समय गुरु गोरखनाथ व उनके शिष्य बाबा भैरवनाथ जी के साथ उनके दूसरे शिष्यों को भी भोजन का निमंत्रण दिया। भोजन का निमंत्रण पाकर सभी गांववासी अचंभित थे कि वह कौन सी कन्या है जो इतने सारे लोगों को भोजन करवाना चाहती है? इसके बाद श्रीधर के घर में अनेक गांववासी आकर भोजन के लिए एकत्रित हुए। तब कन्या रुपी माँ वैष्णो देवी ने एक विचित्र पात्र से सभी को भोजन परोसना शुरू किया।

भोजन परोसते हुए जब वह कन्या भैरवनाथ के पास गई। तब उसने कहा कि मैं तो खीर – पूड़ी की जगह मांस भक्षण और मदिरापान करुंगा। तब कन्या रुपी माँ ने उसे समझाया कि यह ब्राह्मण के यहां का भोजन है, इसमें मांसाहार नहीं किया जाता। किंतु भैरवनाथ ने जान – बुझकर अपनी बात पर अड़ा रहा। जब भैरवनाथ ने उस कन्या को पकडऩा चाहा, तब माँ ने उसके कपट को जान लिया। माँ ने वायु रूप में बदलकरत्रिकूट पर्वत की ओर उड़ चली। भैरवनाथ भी उनके पीछे गया। माना जाता है कि माँ की रक्षा के लिए पवनपुत्र हनुमान भी थे। मान्यता के अनुसार उस वक़्त भी हनुमानजी माता की रक्षा के लिए उनके साथ ही थे। हनुमानजी को प्यास लगने पर माता ने उनके आग्रह पर धनुष से पहाड़ पर बाण चलाकर एक जलधारा निकाला और उस जल में अपने केश धोए। आज यह पवित्र जलधारा बाणगंगा के नाम से जानी जाती है, जिसके पवित्र जल का पान करने या इससे स्नान करने से श्रद्धालुओं की सारी थकावट और तकलीफें दूर हो जाती हैं।

इस दौरान माता ने एक गुफा में प्रवेश कर नौ माह तक तपस्या की। भैरवनाथ भी उनके पीछे वहां तक आ गया। तब एक साधु ने भैरवनाथ से कहा कि तू जिसे एक कन्या समझ रहा है, वह आदिशक्ति जगदम्बा है। इसलिए उस महाशक्ति का पीछा छोड़ दे। भैरवनाथ साधु की बात नहीं मानी। तब माता गुफा की दूसरी ओर से मार्ग बनाकर बाहर निकल गईं। यह गुफा आज भी अर्धकुमारी या आदिकुमारी या गर्भजून के नाम से प्रसिद्ध है। अर्धक्वाँरी के पहले माता की चरण पादुका भी है। यह वह स्थान है, जहाँ माता ने भागते – भागते मुड़कर भैरवनाथ को देखा था। गुफा से बाहर निकल कर कन्या ने देवी का रूप धारण किया। माता ने भैरवनाथ को चेताया और वापस जाने को कहा। फिर भी वह नहीं माना। माता गुफा के भीतर चली गई। तब माता की रक्षा के लिए हनुमानजी ने गुफा के बाहर भैरव से युद्ध किया।

भैरव ने फिर भी हार नहीं मानी जब वीर हनुमान निढाल होने लगे, तब माता वैष्णवी ने महाकाली का रूप लेकर भैरवनाथ का संहार कर दिया। भैरवनाथ का सिर कटकर भवन से 8 किमी दूर त्रिकूट पर्वत की भैरव घाटी में गिरा। उस स्थान को भैरोनाथ के मंदिर के नाम से जाना जाता है। जिस स्थान पर माँ वैष्णो देवी ने हठी भैरवनाथ का वध किया, वह स्थान पवित्र गुफा’ अथवा ‘भवन के नाम से प्रसिद्ध है। इसी स्थान पर माँ काली (दाएँ), माँ सरस्वती (मध्य) और माँ लक्ष्मी (बाएँ) पिंडी के रूप में गुफा में विराजित हैं। इन तीनों के सम्मिलत रूप को ही माँ वैष्णो देवी का रूप कहा जाता है। इन तीन भव्य पिण्डियों के साथ कुछ श्रद्धालु भक्तों एव जम्मू कश्मीर के भूतपूर्व नरेशों द्वारा स्थापित मूर्तियाँ एवं यन्त्र इत्यादी है। कहा जाता है कि अपने वध के बाद भैरवनाथ को अपनी भूल का पश्चाताप हुआ और उसने माँ से क्षमादान की भीख माँगी।

वैष्णो देवी माता की अन्य कथा – Vaishno Devi Mata

हिन्दू पौराणिक मान्यताओं में जगत में धर्म की हानि होने और अधर्म की शक्तियों के बढऩे पर आदिशक्ति के सत, रज और तम तीन रूप महासरस्वती, महालक्ष्मी और महादुर्गा ने अपनी सामूहिक बल से धर्म की रक्षा के लिए एक कन्या प्रकट की। यह कन्या त्रेतायुग में भारत के दक्षिणी समुद्री तट रामेश्वर में पण्डित रत्नाकर की पुत्री के रूप में अवतरित हुई। कई सालों से संतानहीन रत्नाकर ने बच्ची को त्रिकुता नाम दिया, परन्तु भगवान विष्णु के अंश रूप में प्रकट होने के कारण वैष्णवी नाम से विख्यात हुई। लगभग 9 वर्ष की होने पर उस कन्या को जब यह मालूम हुआ है भगवान विष्णु ने भी इस भू-लोक में भगवान श्रीराम के रूप में अवतार लिया है। तब वह भगवान श्रीराम को पति मानकर उनको पाने के लिए कठोर तप करने लगी।

जब श्रीराम सीता हरण के बाद सीता की खोज करते हुए रामेश्वर पहुंचे। तब समुद्र तट पर ध्यानमग्र कन्या को देखा। उस कन्या ने भगवान श्रीराम से उसे पत्नी के रूप में स्वीकार करने को कहा। भगवान श्रीराम ने उस कन्या से कहा कि उन्होंने इस जन्म में सीता से विवाह कर एक पत्नीव्रत का प्रण लिया है। किंतुकलियुग में मैं कल्कि अवतार लूंगा और तुम्हें अपनी पत्नी रूप में स्वीकार करुंगा। उस समय तक तुम हिमालय स्थित त्रिकूट पर्वत की श्रेणी में जाकर तप करो और भक्तों के कष्ट और दु:खों का नाश कर जगत कल्याण करती रहो। जब श्री राम ने रावण के विरुद्ध विजय प्राप्त किया तब मां ने नवरात्रमनाने का निर्णय लिया। इसलिए उक्त संदर्भ में लोग, नवरात्र के 9 दिनों की अवधि में रामायण का पाठ करते हैं। श्री राम ने वचन दिया था कि समस्त संसार द्वारा मां वैष्णो देवी की स्तुति गाई जाएगी, त्रिकुटा, वैष्णो देवी के रूप में प्रसिद्ध होंगी और सदा के लिए अमर हो जाएंगी।

यह भी पढ़ें : 

वैष्णो देवी कैसे पहुंचे – How To Reach Vaishno Devi

माता वैष्णो देवी जी के पवित्र तीर्थ के दर्शन करने के लिए, लगभग 50 किलोमीटर की दूरी पर स्थित एक छोटे से शहर कटरा तक पहुँचना पड़ता है। जम्मू से जो कि जम्मू और कश्मीर राज्य की शीतकालीन राजधानी है। कटरा यात्रा के बेस कैंप के रूप में कार्य करता है। कटरा जम्मू और जम्मू से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है और देश के बाकी हिस्सों से वायु, रेल और सड़क मार्ग से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है।

वैष्णो देवी माता ट्रेन से – Vaishno Devi By Train

कटरा से निकटतम रेलवे स्टेशन उधमपुर रेलवे स्टेशन है। टैक्सी और कैब सेवाएं रेलवे स्टेशन से कटरा के लिए उपलब्ध है। जम्मू / कटरा देश के अन्य हिस्सों से जुड़ा हुआ है और देश के विभिन्न हिस्सों से कई ट्रेनें चलती हैं। गर्मियों और अन्य छुट्टियों के मौसम में, रेलवे यत्रियों के आराम के लिए विशेष ट्रेनों की शुरुआत भी हुई है। कई सुपरफास्ट ट्रेनें भी इस मार्ग पर चलती हैं और नई दिल्ली से एक रात में जम्मू / कटरा तक पहुंच सकते है।

भारतीय रेलवे की वेबसाइट पर ट्रेनों की सूची, उनके शेड्यूल और बुकिंग की स्थिति देखी जा सकती है। यदि आप निकट भविष्य में यात्रा करने की योजना बना रहे हैं तो आप ऑनलाइन टिकट भी बुक कर सकते हैं।

वैष्णो देवी माता सड़क मार्ग से – Vaishno Devi By Bus

जम्मू भारत के बाकी हिस्सों से भी अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। National Highway No. 1A जम्मू से श्रीनगर की ओर जाता है। सभी प्रमुख उत्तर भारतीय शहरों से नियमित बस सेवाएं जम्मू और कटरा के लिए उपलब्ध हैं। विभिन्न State Road Transport Corporations और Private Operators के Standard And Deluxe बसें जम्मू को उत्तर भारत के महत्वपूर्ण शहरों और कस्बों से जोड़ती हैं।

वैष्णो देवी माता हवाईजहाज से – Vaishno Devi By Flight

50 किलोमीटर की दूरी पर स्थित, जम्मू हवाई अड्डा कटरा के सबसे नजदीक है। जम्मू भारत के प्रमुख हवाई अड्डों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। जम्मू हवाई अड्डे से कटरा के लिए नियमित टैक्सी और टैक्सी सेवाएं उपलब्ध हैं। नई दिल्ली से उड़ान का औसत समय लगभग 80 मिनट है।

वैष्णो देवी हेलीकॉप्टर से – Vaishno Devi By Helicopter

हेलिकॉप्टर सेवाएं कटरा से शुरू होती हैं और हेलीकाप्टर आपको सांझीछट्ट में छोड़ता है, जहाँ से भवन (मुख्य मंदिर) लगभग 2 किमी की दूरी पर स्थित है। बादलों से होते हुए इस पवित्र तीर्थ की यात्रा आपको प्राकृतिक सौंदर्य का और साथ ही हिमालय क पर्वतो के बीच ऊंचाइयों के रोमांचित सफर का अनुभव कराती है।

NOTE : आपको बस / ट्रेन / हवाई टिकट जैसे यात्रा दस्तावेज का प्रमाण भी ले जाना होगा। बुकिंग करने के लिए एक फोटो आईडी कार्ड, पता प्रमाण और डेबिट / क्रेडिट कार्ड का प्रयोग करें (original)। फोटो के साथ पासपोर्ट / ड्राइविंग लाइसेंस / वोटर आईडी / पैन कार्ड या क्रेडिट कार्ड आईडी / एड्रेस प्रूफ के रूप में स्वीकार्य हैं। यह भी ध्यान दें कि ऑफ़लाइन बुकिंग के लिए, सभी यात्रियों के लिए आईडी प्रूफ आवश्यक है, न कि केवल टिकट खरीदने वाले व्यक्ति के लिए।

वैष्णो देवी हेलीकाप्टर मूल्य – Vaishno Devi By Helicopter Charges

टिकट की दर (एक तरफ़) रु .1045 / – प्रति व्यक्ति। tax rates कटरा / सांझीछत में संबंधित स्थान पर यात्रा की तारीख से वसूल की जाएंगी।

वैष्णो देवी दर्शन – Vaishno Devi Darshan

पवित्र गुफा के अंदर दर्शन पिंडियों नामक प्राकृतिक चट्टान के रूप में हैं। अंदर कोई प्रतिमा, चित्र या मूर्ति नहीं हैं। श्री माता वैष्णो देवी जी को तीन सर्वोच्च देवियो का अवतार माना जाता है।

वैष्णो देवी दर्शन का समय – Vaishno Devi Darshan Timings

5:00 AM – 12:00 PM And  4:00 PM – 9:00 PM

वैष्णो देवी आरती – Vaishno Devi Aarti

वैष्णो देवी की आरती सुबह और शाम होती है। आरती की पूरी प्रक्रिया होने में दो घंटे लग जाते हैं। प्रत्येक आरती मुख्य तीर्थ या गर्भगृह के अंदर एक बार की जाती है और फिर गुफा के बाहर जहां भक्त एकत्रित होते हैं। जो पवित्र गुफा के बाहर बैठे रहते हैं, वे सभी गर्भगृह के अंदर हो रही आरती और प्रधान पंडित के प्रवचन सुन सकते है। पवित्र गुफा के बाहर आरती समाप्त होने के बाद, पुजारी भक्तों को प्रसादम और चरणामृत (पवित्र जल) वितरित करते हैं।

वैष्णो देवी आरती का समय – Vaishno Devi Aarti Timings

देवी की ‘आरती’ सूर्योदय से ठीक पहले सुबह में और शाम को सूर्यास्त के तुरंत बाद दूसरी बार की जाती है।

Shraddha Suman Vishesh Pooja 

यह पूजा भक्त को देवी की आरती दर्शन में शामिल होने की अनुमति देती है। बुकिंग की चार श्रेणियां हैं जिन्हें श्रद्धालु आवश्यकता के अनुसार चुन सकते हैं। हर श्रेणि में भक्तों की संख्या भिन्न होती हैं, जिन्हें आरती को देखने की अनुमति होती है।

Individual Pooja

देवी को समर्पित हवन का आयोजन मुख्य भवन में “यज्ञशाला” में किया जाता है। यज्ञ में भाग लेने की इच्छा रखने वाले भक्तों को सुबह 8 बजे से पहले कक्ष संख्या ८ पर रिपोर्ट करनी होती है। पूजा सेवा को ऑनलाइन बुक किया जाना चाहिए।

वैष्णो देवी के पास पर्यटन स्थल – Tourist Place Near Vaishno Devi

The Holy Caves , Vaishno Devi 

त्रिकुटा पहाड़ियों में स्थित, कटरा शहर में माता वैष्णोदेवी का पवित्र गुफा मंदिर है। यह प्रसिद्ध मंदिर दुनिया भर से लाखों भक्तों को आकर्षित करता है। माता रानी के रूप में लोकप्रिय, वैष्णो देवी हिंदू देवी दुर्गा की एक अभिव्यक्ति है। यह माना जाता है कि पूजा और आरती के दौरान, देवी माता माता रानी के सम्मान के लिए पवित्र गुफा में पहुंचती हैं। भक्तों का मानना ​​है कि देवी स्वयं भक्तों को यहां पहुंचने के लिए कहती हैं।

Ardh Kuwari Cave, Vaishno Devi

माना जाता है कि इस भवन को बनाने से पहले माता वैष्णोदेवी ने इस गुफा में 9 महीने तक विश्राम किया था। गुफा के दूसरी ओर पहुँचने के लिए अपने घुटनों पर रेंगना पड़ता है।

Bhairavnath Temple, Vaishno Devi

भैरवनाथ मंदिर आए बिना कटरा की कोई यात्रा पूरी नहीं होती है। भवन से 2 किमी की लंबी यात्रा आपको भैरवनाथ मंदिर तक ले जाती है।

Shopping in Vaishno Devi, Vaishno Devi

खरीदारी मुख्य रूप से तीर्थयात्रियों द्वारा की जाती है, जिसमें प्रसाद, साड़ी और शॉल शामिल होती हैं जो देवी को अर्पित की जाती हैं। देवी की तस्वीर के साथ उभरा सोने और चांदी के सिक्के भी यहां बेचे जाते हैं। अन्य सामान जो यहां मिलते हैं, उनमें चूड़ियाँ, कढ़ाई वाले कपड़े, साड़ी और सूट शामिल हैं जो सभी उम्र की महिलाओं के बीच काफी लोकप्रिय हैं।

Dera Baba Banda, Vaishno Devi

क पुराना गुरुद्वारा, डेरे बाबा बंदा बाबा बंदा बहादुर को समर्पित है जो गुरु गोबिंद सिंह के पसंदीदा जत्थेदारों में से एक थे। यहाँ की दीवारें युद्ध के समय के विभिन्न महत्वपूर्ण स्थानों को दर्शाती तस्वीरों से भरी हैं।

Katra, Vaishno Devi

भारत में सबसे महत्वपूर्ण पूजा स्थलों में से एक, वैष्णो देवी का मंदिर, कटरा के छोटे शहर को अपना घर कहता है। जम्मू और कश्मीर के उधमपुर जिले में स्थित, कटरा का दौरा ज्यादातर भगवान शिव के भक्तों द्वारा किया जाता है। तीर्थयात्रा मार्ग केवल तभी पूरा होता है जब वैष्णो देवी से 1.6 किलोमीटर दूर शिव खोरी भी जाया जाता है। कटरा में तालाब और झील का एक बड़ा संग्रह है जिसे सभी पर्यटक देखना पसंद करते है।

Vaishno Devi Ropeway

वैष्णो देवी रोपवे 1 घंटे की यात्रा को 5 मिनट में कवर करता है मात्र 100 rs में , वैष्णो देवी भवन से भैरों बाबा मंदिर तक एक नई रोपवे प्रणाली का उद्घाटन किया गया है, जिससे यात्रा का समय घटकर केवल 3 मिनट रह गया। रोपवे हर घंटे 800 लोगों को ले जा सकता है और केवल एक ही रास्ता चालू रहता है।

Vaishno Devi Ropeway Price – INR 100 per person

Starting Point – Vaishno Devi Mandir

Ticket Booking – Tickets are available on the spot at Bhawan

वैष्णो देवी के दर्शन करने का सबसे अच्छा समय – Best Time To Visit Vaishno Devi

वैष्णो देवी पूरे वर्ष तीर्थयात्रियों के लिए खुली रहती है, लेकिन यात्रा करने का सबसे अच्छा समय मार्च और अक्टूबर के महीनों के बीच होता है। इन महीनों के बीच वैष्णो देवी में बहुत से तीर्थयात्री आते हैं क्योंकि मौसम ठंडा और सुखद होता है, लेकिन अधिकतम नवरात्रों के दौरान अपनी यात्रा की योजना बनाते हैं।

वैष्णो देवी का मौसम – Vaishno Devi Weather

कटरा शहर समुद्र तल से लगभग 2500 फीट की ऊंचाई पर स्थित है जबकि गर्भगृह 5200 फीट समुद्र तल से ऊपर स्थित है। दोनों स्थानों के बीच तापमान में अंतर होता है। अकेले कटरा शहर के तापमान को ध्यान में रखना सही नहीं है, गर्मियों में भी भवन क्षेत्र काफी ठंडा हो सकता है। इस के लिए, कटरा और भवन दोनों पर गर्मियों / सर्दियों के तापमान की व्यापक सीमा को रेखांकित करने वाला एक चार्ट नीचे दिया गया है। तापमान के आंकड़े महज सांकेतिक हैं और वास्तविक मूल्य वर्ष-दर-वर्ष भिन्न हो सकते हैं।

Distances from Katra, Altitude w.r.t. Mean Sea Level & Average Temperature

Location Altitudes(ft) Temperature °C
Winter Summer
Min. Max. Min. Max.
Katra 2500 03 15 20 40
Banganga 2800
Charan Paduka 3380
Adhkuwari 4800 01 14 16 35
Himkoti 5120
Sanjichhat 6200
Bhawan 5200 – 02 13 15 30
Bhairon Ghati (Via Bhawan) 6619 – 03 11 12 25

About the author

Team Bhaktisatsang

भक्ति सत्संग वेबसाइट ईश्वरीय भक्ति में ओतप्रोत रहने वाले उन सभी मनुष्यो के लिए एक आध्यात्मिक यात्रा है, जिन्हे अपने निज जीवन में सदैव ईश्वर और ईश्वरत्व का एहसास रहा है और महाज्ञानियो द्वारा बतलाये गए सत के पथ पर चलने हेतु तत्पर है | यहाँ पधारने के लिए आप सभी महानुभावो को कोटि कोटि प्रणाम

2 Comments

क्या आपको हमारी पोस्ट पसंद आयी ?

Copy Paste blocker plugin by jaspreetchahal.org