धार्मिक यात्रा

महाभारत काल से पुराने इन मन्दिरों का है पांडवों का ऐतिहासिक जुड़ाव

Lodheshwar_Ramnagar_Barabank

हम भले किसी चीज में यकीन करें या ना करें, लेकिन भगवान में विश्वास जरुर करते हैं। भारत में आस्था इतनी है कि, आप यहां कदम कदम पर मंदिर आदि देख सकते हैं। भारत में आस्था का महत्व इतना है कि, लोग दूर देश विदेशो से आकर भारत के मन्दिरों में मत्था टेकते हैं। कुछ मंदिर भारत में अनंतकाल से हैं। जी हां, कई ऐसे मंदिर भी यहां स्थित जिनका निर्माण त्रेता युग और द्वापुर युग में हुआ है । इसी क्रम में आज हम आपको बताने जा रहे हैं, महाभारत काल के कुछ मन्दिरों के बारे में। बताया जाता है कि, इन मंदिरों का निर्माण पांडवों ने12 वर्ष के अज्ञातवास के दौरान किया था।

केदारनाथ ज्योतिर्लिंग – Kedarnath

बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक केदारनाथ उत्तराखण्ड में हिमालय पर्वत की गोद में स्थित है। यहां महाभारत के युद्ध के बाद पांडव रुठे महादेव को मनाने पहुंचे थे। भैस बने महादेव को जब भीम ने पकड़ लिाया तो भैंस के पीठ के आकार में यहां शिवलिंग प्रकट हो गया। बाद में शंकराचार्य ने केदारनाथ को प्रतिस्थापित किया।

महादेव मंदिर काँगड़ा – Mahadev Mandir

aghanjar-mahadev

हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा जिले में खनियारा स्थित प्राचीन ऐतिहासिक अघंजर महादेव मंदिर। पांडु पुत्र अर्जुन ने महाभारत युद्ध से पूर्व भगवान श्रीकृष्ण के मार्गदर्शन पर इस स्थान पर बाबा भोले की तपस्या कर उनसे एक अस्त्र प्राप्त किया था।

लोधेश्वर महादेव मंदिर – Lodheshwar Mahadev

Lodheshwar_Ramnagar_Barabank

बाराबंकी में रामनगर तहसील में स्थित पांडव कालीन लोधेश्वर महादेव मंदिर की स्थापना पांडवो ने अज्ञातवास के दौरान की थी। पूरे देश से लाखो श्रद्धालू यहाँ कावर लेकर शिवरात्रि से पूर्व पहुंचकर शिवलिंग पर जल चढ़ाते हैं।

स्थासनेश्वर मंदिर – Sthaneshwar Mahadev Temple

sthaneshawar-mahadev-mandir

स्थासनेश्वर मंदिर भगवान शिव का मंदिर है। कुरुक्षेत्र में स्थित है। ऐसी मान्यता है कि इस मंदिर में पाण्डवों और भगवान कृष्ण नें युद्ध से पहले पूजा-अर्चना की थी। ऐसी मान्यता है कि स्वयं भगवान शिव यहाँ वास करते हैं और ‘महाशिवरात्रि’ की रात को तांडव करते हैं।

केरल महादेव मंदिर – Mahadev Temple

Vadakkunnathan-Temple

ऐसी मान्यता है कि जब पांडवों ने अपना राजपाट राजा परीक्षि त को सौंप दितया तीर्थयात्रा पर निरकले तो उस दौरान वह केरल आए थे। केरल के पंच पांडव मंदिरों के बारे में कथा है कि तीर्थयात्रा के दौरान पांडवों ने इन मंदिरों का निरर्माण किेया था।

गंगेश्वर महादेव मंदिर – दीव – Gangeshwar Mahadev Temple

gangeshwar-mahadev

यह मंदिर भारत के संघ शासित क्षेत्र दीव से लगभग 3 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है, जहां पांच शिवलिंग एक साथ स्थापित हैं।कहा जाता है पांडवो ने अपने वनवास और अज्ञातवास के दौरान यहां पर इन शिवलिंगों की स्थापना की थी।

कालीनाथ शिव मंदिर – हिमाचल प्रदेश – Shiv Mandir

kalinatha-kaleshwar-mandir

कालीनाथ शिव मंदिर हिमाचल प्रदेश की कांगड़ा घाटी में स्थित है. यहां स्थापित शिवलिंग को कालीनाथ महाकालेश्वर के नाम से पूजा जाता है।कहा जाता है कि पांडवों ने इसकी स्थापना लाक्षागृह से जीवित बचने के बाद की थी।

लाखामंडल मंदिर – उत्तराखंड – Lakhamandal 

lakhmandal-uttarakhand-temple

लाखामंडल के बारे में मान्यता है कि लाक्षागृह से बच निकलने के बाद पांडव बहुत समय तक यहां रुके थे। इसी दौरान उन्होंने यहां एक शिवलिंग की स्थापना की थी।

About the author

Team Bhaktisatsang

भक्ति सत्संग वेबसाइट ईश्वरीय भक्ति में ओतप्रोत रहने वाले उन सभी मनुष्यो के लिए एक आध्यात्मिक यात्रा है, जिन्हे अपने निज जीवन में सदैव ईश्वर और ईश्वरत्व का एहसास रहा है और महाज्ञानियो द्वारा बतलाये गए सत के पथ पर चलने हेतु तत्पर है | यहाँ पधारने के लिए आप सभी महानुभावो को कोटि कोटि प्रणाम

क्या आपको हमारी पोस्ट पसंद आयी ?

Copy Paste blocker plugin by jaspreetchahal.org