पौराणिक कथाएं

जब चोर बने गोस्वामी तुलसीदास के शिष्य

goswami-375x195

जब चोर बने गोस्वामी तुलसीदास के शिष्य | Goswami Tulsidas Ke Shisya

एक बार गोस्वामी तुलसीदास रात्रि को कहीं से लौट रहे थे कि सामने से कुछ चोर आते दिखाई दिए।

चोरों ने तुलसीदास जी से पूछा – ‘कौन हो तुम?’

 उत्तर मिला – ‘भाई, जो तुम सो मैं।

चोरों ने उन्हें भी चोर समझा, बोले- मालूम होता है, नए निकले हो। हमारा साथ दो।

चोरों ने एक घर में सेंध लगाई और तुलसीदास जी से कहा- ‘यहीं बाहर खड़े रहो। अगर कोई दिखाई दे, तो हमें खबर कर देना।’

चोर अंदर गए ही थे कि गोसाईंजी ने अपनी झोली से शंख निकाला और उसे बजाना शुरू कर दिया। चोरों ने आवाज सुनी, तो डर गए और बाहर आकर देखा, तो तुलसीदासजी के हाथ में शंख दिखाई दिया।

उन्हें खींचकर वे एक ओर ले गए और पूछा – शंख क्यों बजाया था?’

आपने ही तो बताया था कि जब कोई दिखाई दे तो खबर कर देना। मैंने अपने चारों तरफ देखा, तो मुझे प्रभु रामचंद्रजी दिखाई दिए। मैंने सोचा कि आप लोगों को उन्होंने चोरी करते देख लिया है और चोरी करना पाप है, इसलिए वे जरूर दंड देंगे, इसलिए आप लोगों को सावधान करना उचित समझा।’

‘मगर रामचंद्रजी तु्म्हें कहां दिखाई दिए’ – एक चोर ने पूछ ही लिया।

‘भगवान का वास कहां नहीं है? वे तो सर्वज्ञ हैं, अंतर्यामी हैं और उनका सब तरफ वास है। मुझे तो इस संसार में वे सब तरफ दिखाई ‍देते हैं, तब किस स्थान पर वे दिखाई दिए, कैसे बताऊं?’ तुलसीदास जी ने जवाब दिया।

चोरों ने सुना, तो वे समझ गए कि यह कोई चोर नहीं, महात्मा है। अकस्मात उनके प्रति श्रद्धाभाव जागृत हो गया और वे उनके पैरों में गिर पड़े। उन्होंने फिर चोरी करना छोड़ दिया और वे उनके शिष्य हो गए।

About the author

Team Bhaktisatsang

भक्ति सत्संग वेबसाइट ईश्वरीय भक्ति में ओतप्रोत रहने वाले उन सभी मनुष्यो के लिए एक आध्यात्मिक यात्रा है, जिन्हे अपने निज जीवन में सदैव ईश्वर और ईश्वरत्व का एहसास रहा है और महाज्ञानियो द्वारा बतलाये गए सत के पथ पर चलने हेतु तत्पर है | यहाँ पधारने के लिए आप सभी महानुभावो को कोटि कोटि प्रणाम

क्या आपको हमारी पोस्ट पसंद आयी ?