Browsing: Ganesh Mantra

गणपति मंत्र तथा श्लोक – Ganpati Shlok & Mantra  Ganesh Mantra in Hindi : विघ्नहर्ता श्री गणेश के मंत्र (Ganesh Mantra) और गणेश श्लोक (Ganpati Shlok) के उच्चारण से भक्तो के दुःख पल भर में समाप्त हो जाते हैं। गणेश मंत्र जाप (Ganesh Mantra in Sanskrit) से समस्त चिंता दूर हो जाएँगी । इन गणेश

गणेश मंत्र – Ganesh Mantra ॐ ग्लां ग्लीं ग्लूं गं गणपतये नम : सिद्धिं मे देहि बुद्धिं प्रकाशय ग्लूं  गलीं ग्लां  फट् स्वाहा|| यह भी पढ़े : श्री गणेश चालीसा गणेश मंत्र विधि – Ganesh ji ke mantra इस मंत्र का जप करने वाला साधक सफेद वस्त्र धारण कर सफेद रंग के आसन पर बैठकर

नित्य पूजा मंत्र – Nitya Pooja Mantra Mantra or Puja – सभी कष्टों के निवारण एवं ईश्वर प्राप्ति के लिए नित्य पुजा (Nitya Pooja Vidhanam) का मार्ग श्रेष्ट माना गया है। नित्य पूजन (Daily Pooja) और नित्य पूजा मंत्र (Puja Mantra) जपने से श्रद्धा और विश्वास का ही जन्म नही होता है अपितु मन में

श्री गणेश सहस्त्र नामावली – Ganesh Sahasranamam भगवान श्री गणेश सभी देवताअों में प्रथम पूज्य माने गए हैं। उनके 1000 नामों का सस्वर पवित्र ध्वनि के साथ प्रति बुधवार उच्चारण किया जाए तो घर में मंगल कार्य होने लगते हैं। बच्चों को प्रगति मिलने लगती है और मुखिया को हर काम में सफलता प्राप्त होती है

  गणेश संकटनाशन स्तोत्र – Ganesh Sankatnashan Strotam प्रणम्य शिरसा देवं गौरीपुत्रं विनायकम् भक्तावासं स्मरेनित्यम आयुष्कामार्थ सिध्दये ॥१॥ प्रथमं वक्रतुण्डं च एकदन्तं द्वितीयकम् तृतीयं कृष्णपिङगाक्षं गजवक्त्रं चतुर्थकम ॥२॥ लम्बोदरं पञ्चमं च षष्ठं विकटमेव च सप्तमं विघ्नराजेन्द्रं धुम्रवर्णं तथाषष्टम ॥३॥ नवमं भालचंद्रं च दशमं तु विनायकम् एकादशं गणपतिं द्वादशं तु गजाननम ॥४॥ द्वादशेतानि नामानि त्रिसंध्यं य:

  श्री गणपत्यथर्वशीर्ष – Shri Ganpatyatharvshirsh ॥ शान्ति पाठ ॥ ॐ भद्रं कर्णेभिः शृणुयाम देवाः । भद्रं पश्येमाक्षभिर्यजत्राः ॥ स्थिरैरङ्गैस्तुष्टुवांसस्तनूभिः । व्यशेम देवहितं यदायुः ॥ ॐ स्वस्ति न इन्द्रो वृद्धश्रवाः । स्वस्ति नः पूषा विश्ववेदाः ॥ स्वस्तिनस्तार्क्ष्यो अरिष्टनेमिः । स्वस्ति नो बृहस्पतिर्दधातु ॥ ॐ तन्मामवतु तद् वक्तारमवतु अवतु माम् अवतु वक्तारम् ॐ शांतिः । शांतिः

  24 देवताओं के 24 चमत्कारी मंत्र – Hindu God Mantra Pdf हिन्दू धर्म के अनुसार ताकत, सफलता व इच्छाएं पूरी करने के लिए इष्टसिद्धि बहुत आवश्यक है इष्टसिद्धि का मतलब है कि व्यक्ति जिस देव शक्ति के लिए श्रद्धा और आस्था मन में बना लेता है, उस देवता से जुड़ी सभी शक्तियां, प्रभाव और

  श्रीमद उच्छिष्ठमहागणपती कवच – Shrimad Ucchishta Mahaganpati Kavach ओम श्रीमदउच्छिष्ठ महागणाधिपतये नमो नम।। ओम हस्तिपिशाचीलिखे स्वाहा । ओम हृीं गं हस्तिपिशाची लिखे स्वाहा अथ श्रीमद उच्छिष्ठ गणपती कवचम् – Ganesh Mantra in Hindi देव उवाच ।। – देवदेव जगन्नाथ सृष्टी स्थिती लयात्मक । विना ध्यानं विना मंत्र विना होमं विना जपम् । येण स्मरणमात्रेण लभ्यते चाशु

राशिनुसार मंत्र – Mantra According Sun-sign  आज जिस युग में हम जी रहे हैं, वहां धन अर्थात पैसा एक मौलिक आवश्यकता बन चुका है।  तभी तो बोला जाता है कि “बाप बड़ा ना भईया, सबसे बड़ा रुपईया।” आपने कभी कल्पना की है कि अगर आपकी जेब में पैसा ना हो, आपका बैंक अकाउंट बैलेंस खत्म

  गायत्री मंत्र जप – Gaytri Mantra Japa शास्त्रों में प्रत्येक मंत्र को अति प्रभावकारी और फलदायी माना गया है, तथा प्रत्येक मंत्र की कुछ सीमाएं और परिमाप होता है और उनके लिए साधक को पूर्ण सावधानी रखने की आवश्यकता होती है | परन्तु अगर हम विशेष प्रयोजन की बात करे तो मंत्र जाप तभी