मंत्र-श्लोक-स्त्रोतं

सिद्धि के लिए श्री गणेश मंत्र

 

मंत्र 

ॐ ग्लां ग्लीं ग्लूं गं गणपतये नम : सिद्धिं मे देहि बुद्धिं

प्रकाशय ग्लूं  गलीं ग्लां  फट् स्वाहा||

यह भी पढ़े : श्री गणेश चालीसा

विधि :-

इस मंत्र का जप करने वाला साधक सफेद वस्त्र धारण कर सफेद रंग के आसन पर बैठकर पूर्ववत् नियम का पालन करते हुए इस मंत्र का सात हजार जप करे| जप के समय दूब, चावल, सफेद चन्दन सूजी का  लड्डू आदि रखे तथा जप काल में कपूर की धूप  जलाये  तो  यह मंत्र ,सर्व मंत्रों को  सिद्ध करने  की  ताकत (Power, शक्ति) प्रदान करता है|

About the author

Team Bhaktisatsang

भक्ति सत्संग वेबसाइट ईश्वरीय भक्ति में ओतप्रोत रहने वाले उन सभी मनुष्यो के लिए एक आध्यात्मिक यात्रा है, जिन्हे अपने निज जीवन में सदैव ईश्वर और ईश्वरत्व का एहसास रहा है और महाज्ञानियो द्वारा बतलाये गए सत के पथ पर चलने हेतु तत्पर है | यहाँ पधारने के लिए आप सभी महानुभावो को कोटि कोटि प्रणाम

क्या आपको हमारी पोस्ट पसंद आयी ?