मंत्र-श्लोक-स्त्रोतं

विभिन्न ग्रहों के मंत्र

 

ग्रह मंत्र

सूर्य मन्त्र

ॐ ह्रीं ह्रीं सूर्याय नमः ||

( 3 या 5 माला का जप प्रतिदिन )

चन्द्र मन्त्र

ॐ श्रीं क्रीं चं चन्द्राय नमः ||

( 3 माला का जाप प्रतिदिन )

मंगल मन्त्र

ॐ हुं श्रीं मंगलाय नमः ||

( 3 माला का जाप प्रतिदिन )

बुध मन्त्र 

ॐ ऐं स्त्रीं श्रीं बुधाय नमः ||

( 5 माला का जाप अवश्य करें)

बृहस्पति मन्त्र

ॐ बृं बृहस्पतये नमः ||

(3 माला का जाप प्रतिदिन)

शुक्र मन्त्र 

ॐ ह्रीं श्रीं शुक्राय नमः ||

(5 माला का जाप आवश्यक

जय जय श्री शनिदेव

शनि मन्त्र

ॐ ऐं हीं श्रीं श्नैश्चराय नमः ||

(5 माला का जाप करें)

राहू मन्त्र

ॐ ऐं ह्नीं राहवे नमः ||

( 3 माला का जाप करें )

केतु मन्त्र 

ॐ ह्रीं केतव नमः ||

(3 माला का जाप करें)

नवग्रह मन्त्र 

ॐ ब्रह्मा मुरारिस्त्रिपुरान्तकारी, भानुः शशी भूमिसुतो बुधश्च ।

गुरुश्च शुक्रः शनिराहु केतवः, सर्वे ग्रहा शान्तिकरा भवन्तु ।।

About the author

Team Bhaktisatsang

भक्ति सत्संग वेबसाइट ईश्वरीय भक्ति में ओतप्रोत रहने वाले उन सभी मनुष्यो के लिए एक आध्यात्मिक यात्रा है, जिन्हे अपने निज जीवन में सदैव ईश्वर और ईश्वरत्व का एहसास रहा है और महाज्ञानियो द्वारा बतलाये गए सत के पथ पर चलने हेतु तत्पर है | यहाँ पधारने के लिए आप सभी महानुभावो को कोटि कोटि प्रणाम

क्या आपको हमारी पोस्ट पसंद आयी ?