मंत्र-श्लोक-स्त्रोतं

बुध अष्टोत्तरशतनामवलिः – श्री बुध के 108 नाम और बीज मंत्र

 

बुध बीज मन्त्र 

ॐ ब्राँ ब्रीं ब्रौं सः बुधाय नमः ||

बुध अष्टोत्तर शतनामवलिः – Budha Ashtottara Shatanamavali 

ॐ बुधाय नमः ||

ॐ बुधार्चिताय नमः ||

ॐ सौम्याय नमः ||

ॐ सौम्यचित्ताय नमः ||

ॐ शुभ: प्रदाय नमः ||

ॐ दृढव्रताय नमः ||

ॐ दृढफलाय नमः ||

ॐ श्रुतिजालप्रबोधकाय नमः ||

ॐ सत्यवासाय नमः ||

ॐ सत्यवचसे नमः ||१०

ॐ श्रेयसां पतये नमः ||

ॐ अव्ययाय नमः ||

ॐ सोमजाय नमः ||

ॐ सुखदाय नमः ||

ॐ श्रीमते नमः ||

ॐ सोमवंशप्रदीपकाय नमः ||

ॐ वेदविदे नमः ||

ॐ वेदतत्त्वाशाय नमः ||

ॐ वेदान्तज्ञानभास्कराय नमः ||

ॐ विद्याविचक्षणाय नमः ||२०

ॐ विभुवे नमः ||

ॐ विद्वत्प्रीतिकराय नमः ||

ॐ ऋजवे नमः ||

ॐ विश्वानुकूलसंचाराय नमः ||

ॐ विशेषविनयान्विताय नमः ||

ॐ विविधागमसारज्ञाय नमः ||

ॐ वीर्यवते नमः ||

ॐ विगतज्वराय नमः ||

ॐ त्रिवर्गफलदाय नमः ||

ॐ अनन्ताय नमः ||३०

ॐ त्रिदशाधिपपूजिताय नमः ||

ॐ बुद्धिमते नमः ||

ॐ बहुशास्त्रज्ञाय नमः ||

ॐ बलिने नमः ||

ॐ बन्धविमोचकाय नमः ||

ॐ वक्रातिवक्रगमनाय नमः ||

ॐ वासवाय नमः ||

ॐ वसुधाधिपाय नमः ||

ॐ प्रसन्नवदनाय नमः ||

ॐ वन्द्याय नमः ||४०

ॐ वरेण्याय नमः ||

ॐ वाग्विलक्षणाय नमः ||

ॐ सत्यवते नमः ||

ॐ सत्यसंकल्पाय नमः ||

ॐ सत्यबन्धवे नमः ||

ॐ सदादराय नमः ||

ॐ सर्वरोगप्रशमनाय नमः ||

ॐ सर्वमृत्युनिवारकाय नमः ||

ॐ वाणिज्यनिपुणाय नमः ||

ॐ वश्याय नमः ||५०

ॐ वाताङ्गाय नमः ||

ॐ वातरोगहृते नमः ||

ॐ स्थूलाय नमः ||

ॐ स्थैर्यगुणाध्यक्षाय नमः ||

ॐ स्थूलसूक्ष्मादिकारणाय नमः ||

ॐ अप्रकाशाय नमः ||

ॐ प्रकाशात्मने नमः ||

ॐ घनाय नमः ||

ॐ गगनभूषणाय नमः ||

ॐ विधिस्तुत्याय नमः ||६०

ॐ विशालाक्षाय नमः ||

ॐ विद्वज्जनमनोहराय नमः ||

ॐ चारुशीलाय नमः ||

ॐ स्वप्रकाशाय नमः ||

ॐ चपलाय नमः ||

ॐ जितेन्द्रियाय नमः ||

ॐ उदङ्मुखाय नमः ||

ॐ मखासक्ताय नमः ||

ॐ मगधाधिपतये नमः ||

ॐ हरये नमः ||७०

ॐ सौम्यवत्सरसंजाताय नमः ||

ॐ सोमप्रियकराय नमः ||

ॐ महते नमः ||

ॐ सिंहाधिरूढाय नमः ||

ॐ सर्वज्ञाय नमः ||

ॐ शिखिवर्णाय नमः ||

ॐ शिवंकराय नमः ||

ॐ पीताम्बराय नमः ||

ॐ पीतवपुषे नमः ||

ॐ पीतच्छत्रध्वजाङ्किताय नमः ||८०

ॐ खड्गचर्मधराय नमः ||

ॐ कार्यकर्त्रे नमः ||

ॐ कलुषहारकाय नमः ||

ॐ आत्रेयगोत्रजाय नमः ||

ॐ अत्यन्तविनयाय नमः ||

ॐ विश्वपवनाय नमः ||

ॐ चाम्पेयपुष्पसंकाशाय नमः ||

ॐ चारणाय नमः ||

ॐ चारुभूषणाय नमः ||

ॐ वीतरागाय नमः ||९०

ॐ वीतभयाय नमः ||

ॐ विशुद्धकनकप्रभाय नमः ||

ॐ बन्धुप्रियाय नमः ||

ॐ बन्धुयुक्ताय नमः ||

ॐ वनमण्डलसंश्रिताय नमः ||

ॐ अर्केशाननिवासस्थाय नमः ||

ॐ तर्कशास्त्रविशारदाय नमः ||

ॐ प्रशान्ताय नमः ||

ॐ प्रीतिसंयुक्ताय नमः ||

ॐ प्रियकृते नमः ||१००

ॐ प्रियभूषणाय नमः ||

ॐ मेधाविने नमः ||

ॐ माधवसक्ताय नमः ||

ॐ मिथुनाधिपतये नमः ||

ॐ सुधिये नमः ||

ॐ कन्याराशिप्रियाय नमः ||

ॐ कामप्रदाय नमः ||

ॐ घनफलाश्रयाय नमः ||

इति बुध अष्टोत्तरशतनामावलिः सम्पूर्णम् 

About the author

Team Bhaktisatsang

भक्ति सत्संग वेबसाइट ईश्वरीय भक्ति में ओतप्रोत रहने वाले उन सभी मनुष्यो के लिए एक आध्यात्मिक यात्रा है, जिन्हे अपने निज जीवन में सदैव ईश्वर और ईश्वरत्व का एहसास रहा है और महाज्ञानियो द्वारा बतलाये गए सत के पथ पर चलने हेतु तत्पर है | यहाँ पधारने के लिए आप सभी महानुभावो को कोटि कोटि प्रणाम

क्या आपको हमारी पोस्ट पसंद आयी ?

Copy Paste blocker plugin by jaspreetchahal.org