व्रत - त्यौहार शुभ मुहूर्त

महाशिवरात्रि व्रत 2019 – शुभ मुहूर्त, पूजन विधि और मंत्र से मनाये शिवरात्रि

महाशिवरात्रि व्रत 2019 – शुभ मुहूर्त, पूजन विधि और मंत्र से मनाये शिवरात्रि

मान्यतानुसार महाशिवरात्रि के प्रदोषकाल में शंकर-पार्वती का विवाह हुआ था। प्रदोष काल में महाशिवरात्रि तिथि में सर्व ज्योतिर्लिंगों का प्रादुर्भाव हुआ था। शास्त्रनुसार सर्वप्रथम ब्रह्मा व विष्णु ने महाशिवरात्रि पर शिवलिंग पूजन किया था। पौराणिक मान्यतानुसार दिव्य ज्योर्तिलिंग का उदभव भी महाशिवरात्रि पर्व पर माना जाता है व इसी दिन को ही शिव उत्पत्ति के रूप में मानते हैं।

इस दिन भक्तजन महाशिवरात्रि का व्रत भी करते है | महाशिवरात्रि का व्रत हमारे भोलेबाबा को समर्पित होता है इस शुभ दिन को मंदिर में शिवलिंग पर हर भक्त अपनी श्रद्धानुसार अभिषेक करता है और सुखी जीवन की कामना करता है। हर भक्त शिवलिंग पर जल, दूध, बेल पत्र, शहद, फूल आदि चढ़ाते है। इस बार की महा शिवरात्रि और भी विशेष है क्यों की इस दिन प्रयागराज में चल रहे कुम्भ मेले का समापन होने के साथ आखिरी शाही स्नान किया जायेगा |

महाशिवरात्रि का दिन भगवान शिव की पूजा करने का और उनकी कृपा को पाने का सबसे बड़ा दिन माना जाता है, कुछ लोग पूरा दिन शिवरात्रि का उपवास भी करते हैं। और लोगो का मानना है की इस दिन यदि पूरे भक्ति भाव से पूजा पाठ करके कोई भोलेबाबा को प्रसन्न कर लेता है। तो इससे सभी काम सफल होते हैं और घर में सुख समृद्धि बनी रहती है। इसके अलावा और भी बहुत से फायदे इस व्रत को रखने से मिलते हैं, तो आइये अब जानते हैं की शिवरात्रि का व्रत रखने से कौन से फायदे मिलते हैं, और शिवरात्रि की पूजा कैसे करते हैं।

महाशिवरात्रि व्रत 2019 मे कब है ?

2019 में महाशिवरात्रि चार 4 मार्च, सोमवार के दिन मनाई जाएगी।

महाशिवरात्रि 2019 का शुभ मुहूर्त

  • शुभ मुहूर्त शुरूशाम 04:28, 4 मार्च 2019
  • शुभ मुहूर्त समाप्तसुबह 07:07, 5 मार्च 2019

महाशिवरात्रि की विशेष पूजन विधि

शिवरात्रि के प्रदोष काल में शिवलिंग को जल, दूध, बिल्वपत्र और सफेद आंकड़ा समर्पित करें तत्पश्चात शिवलिंग पर धूप, दीप गंध, पुष्प दूध, अक्षत, धतूरा, बिल्वपत्र व नैवेद्य अर्पित कर पंचोपचार पूजन करें तथा चंदन की माला से इस विशेष मंत्र का 1 माला जाप करें। पूजन के बाद नैवेद्य सभी में वितरित कर दें।

महाशिवरात्रि पूजन मंत्र

‘श्रीं शितिकण्ठाय नमः शिवाय श्रीं’ मंत्र का पूजा के बाद जाप करें।

समस्याओं से मुक्ति हेतु करें ये विशेष उपाय

निरोगी काया की प्राप्ति हेतु शिवलिंग पर शहद से अभिषेक करें। धन के अभाव से मुक्ति हेतु शिवलिंग पर चढ़े सिंदूर से घर के मेन गेट पर “श्रीं” लिखें। दरिद्रता से मुक्ति हेतु शिवलिंग पर चढ़ा चांदी का सिक्का तिजोरी में रखें।

महाशिवरात्रि के टोटके उपाय 

  • हमेशा पारे से बने छोटे शिवलिंग की पूजा करें क्यूंकि पारद शिवलिंग बहुत चमत्कारी होता हैं, ऐसा करने से आपको बहुत जल्दी सफलता मिल जायेगीं |
  • एक बात का आप जरुर ध्यान दे, पके हुए चावलों से शिवलिंग का श्रृंगार करें और फिर पूजा करें. ऐसा करने से मंगलदोष शांत होता हैं |
  • हमेसा शिवलिंग पर चमेली के फूल और शिव मंत्र ॐ नम: शिवाय का जाप करने से मन चाही गाड़ी की प्राप्ति होती हैं, एक बात का ध्यान रखें की जल चढ़ाते समय हथेलियों से शिवलिंग को रगड़े क्योंकि ऐसा करने से आपकी किस्मत बदल सकती हैं |
  • केसर में मिला हुआ जल शिवलिंग पर चढ़ाए, ऐसा करने से विवाह और वैवाहिक जीवन से जुड़ीं सभी समस्याएं दूर हो जायेंगी |
  • अपने शनि दोष और रोग करने के लिए शिवलिंग पर जल चढ़ाते समय उसमें काले तिल, डेली पानी में दूध, काले तिल मिलाकर शिवलिंग पर चढ़ाने से बिमारियों से छुटकारा मिलता हैं |
  • आपको शिवलिंग पर रोज दूर्वा चढ़ाने से लम्बी उम्र की प्राप्ति होती है, ऐसा करने से गणेशजी भी प्रसन्न होते है और घर में सुख- समृद्धि भी बढ़ती हैं |
  • कभी-कभी शिवजी के निमित्त सवा किलो या 11 किलो चावल या गेहूं का दान करें |
  • हमेसा शिवलिंग पर रोज चावल चढ़ाने से लक्ष्मी की स्थाई कृपा मिलती है |

About the author

Team Bhaktisatsang

भक्ति सत्संग वेबसाइट ईश्वरीय भक्ति में ओतप्रोत रहने वाले उन सभी मनुष्यो के लिए एक आध्यात्मिक यात्रा है, जिन्हे अपने निज जीवन में सदैव ईश्वर और ईश्वरत्व का एहसास रहा है और महाज्ञानियो द्वारा बतलाये गए सत के पथ पर चलने हेतु तत्पर है | यहाँ पधारने के लिए आप सभी महानुभावो को कोटि कोटि प्रणाम

क्या आपको हमारी पोस्ट पसंद आयी ?