अध्यात्म

कृष्णयजुर्वेदीयोपनिषद : ब्रह्म आनंद और सत्य ज्ञान की महिमा मंडित करता विशिष्ट उपनिषद

कृष्णयजुर्वेदीयोपनिषद – कृष्ण यजुर्वेद के उपनिषद

तैत्तिरीयोपनिषद …………………………

कृष्ण आयुर्वेद की तैत्तिरीय शाखा के तैत्तिरीय आरण्यक के सप्तम से नवं प्रपाठक को तैत्तिरीयोपनिषद कहते है। इसमें ३३ आध्याय है जिन्हें क्रमशः शिक्षावल्ली, ब्रह्मानन्दवल्ली एवं भृगुवल्ली कहते हैं। ये वल्लियाँ अनुवाकों में विभक्त हैं।

इस उपनिषद में दिए गए मातृ देवो भवः, अतिथि देवो भवः इन उपदेशों का सार्वकालिक महत्त्व है। इसमें आचार्य द्वारा स्नातक को दिए गए उपदेश हैं तथा ब्रह्म को आनंद, सत्य ज्ञान एवं अनंत कहकर उससे आकाश, वायु, अग्नि, जल आदि की उत्पत्ति कही गयी है साथ ही ब्रह्म संबंधी जिज्ञासा का निरूपण है। शंकराचार्य ने इस पर भाष्य किया है।

कठोपनिषद ……………………………

कृष्ण यजुर्वेद की कठशाखा से सम्बद्ध उपनिषद है। इसमें २ अध्याय हैं जो ३-३ वल्लियों में विभक्त हैं। इसमें नचिकेता की कथा है। यम द्वारा प्रदत्त उपदेश अत्यंत महत्वपूर्ण है। पुरुष को ज्ञान की परम सीमा माना गया है। आत्मा की व्यापकता तथा विविध रूपों में उसकी अभिव्यक्ति का निरूपण भी इस उपनिषद में प्राप्त होता है। इस उपनिषद पर भी शंकर भाष्य उपलब्ध है।

श्वेताश्वतरोपनिषद –

इस उपनिषद को परवर्ती माना जाता है। इसमें ६ अध्याय है, इनमें ब्रह्म की व्यापकता तथा उसके साक्षात्कार का उपाय वर्णित है। योग का भी इसमें विस्तृत वर्णन है। ईश्वर की स्तुति रूद्र के रूप में की गयी है। एकात्मक ब्रह्म की माया का वर्णन है जिसमें त्रिगुणात्मक सृष्टि होती है। इस उपनिषद में सांख्य दर्शन के मौलिक सिद्धांतों का प्रतिपादन है।

अक्षि उपनिषद • अमृतबिन्दु उपनिषद • अमृतनादोपनिषद • अवधूत उपनिषद • ब्रह्म उपनिषद • ब्रह्मविद्या उपनिषद • दक्षिणामूर्ति उपनिषद • ध्यानबिन्दु उपनिषद • एकाक्षर उपनिषद • गर्भ उपनिषद • कैवल्योपनिषद • कालाग्निरुद्रोपनिषद • कर उपनिषद • कठरुद्रोपनिषद •

क्षुरिकोपनिषद • नारायणो • पंचब्रह्म • प्राणाग्निहोत्र उपनिषद • रुद्रहृदय • सरस्वतीरहस्य उपनिषद • सर्वासार उपनिषद • शारीरिकोपनिषद • स्कन्द उपनिषद • शुकरहस्योपनिषद • तेजोबिन्दु उपनिषद • वराहोपनिषद • योगकुण्डलिनी उपनिषद • योगशिखा उपनिषद • योगतत्त्व उपनिषद • कलिसन्तरणोपनिषद • चाक्षुषोपनिषद

About the author

Team Bhaktisatsang

भक्ति सत्संग वेबसाइट ईश्वरीय भक्ति में ओतप्रोत रहने वाले उन सभी मनुष्यो के लिए एक आध्यात्मिक यात्रा है, जिन्हे अपने निज जीवन में सदैव ईश्वर और ईश्वरत्व का एहसास रहा है और महाज्ञानियो द्वारा बतलाये गए सत के पथ पर चलने हेतु तत्पर है | यहाँ पधारने के लिए आप सभी महानुभावो को कोटि कोटि प्रणाम

1 Comment

  • Excellent, can you please forward the link for downloading sanskrit sloka & hindi translation there of for each of 160 upanishad

क्या आपको हमारी पोस्ट पसंद आयी ?

Copy Paste blocker plugin by jaspreetchahal.org