धर्म ज्ञान

किस मनोकामना के लिए कौन से देवी-देवता को पूजना चाहिए?

मनोकामना पूर्ति के लिए किस देवता की पूजा करे

हर व्यक्ति की अपनी-अपनी इच्छाएं और मनोकामनाएं होती हैं जिन्हे पूरा करने के लिए भगवान की भक्ति से बेहतर उपाय और कोई नहीं है। कहते हैं यदि सच्चे मन से भगवान की प्रार्थना और उपासना की जाए तो प्रभु सभी मनोकामनाएं पूर्ण करते हैं। इसके अलावा यदि कोई व्यक्ति अपने जीवन की समस्याओं से छुटकारा पाना चाहता हो तो भी भगवान का पूजन श्रेष्ठ माना जाता है।

वैसे तो सभी भगवानों का पूजन मनोकामना पूर्ति के लिए अच्छा माना जाता है। लेकिन शास्त्रों में अलग-अलग मनोकामनाओं के लिए अलग-अलग देवी देवताओं के पूजन का विधान बताया गया है। जिसके बारे में बहुत ही कम लोग जानते हैं। इसलिए आज हम आपको किस मनोकामना के लिए कौन से देवी देवता का पूजन करना चाहिए इस बारे में बता रहे हैं। ताकि आप भी अपनी मनोकामना के अनुसार देवी देवता को प्रसन्न कर सकें और उनका आशीर्वाद प्राप्त कर सकें।

मनोकामना के अनुसार कौन से देवी-देवता की पूजा करनी चाहिए?

शास्त्रों के अनुसार, प्रत्येक देवी-देवता को विशेष मनोकामना के लिए पूजना श्रेष्ठ होता है। इसलिए मनोकामना के अनुसार ही देवी-देवता का पूजन करना चाहिए। यहाँ उन्ही के बारे में विस्तार से बता रहे हैं।

विवाह से संबंधी मनोकामना

अगर विवाह में देरी, बार-बार विवाह में रुकावटें आना, वैवाहिक जीवन में समस्याएं, योग्य वर या वधु नहीं मिल पाना जैसी समस्याएं हो तो शिव-पार्वती, लक्ष्मी-नारायण, सीता-राम, राधा-कृष्ण और श्री गणेश भगवान का पूजा करनी चाहिए। इनके पूजन से विवाह संबंधी समस्याएं दूर होती हैं और विवाह शीघ्र होता है।

धन की मनोकामना

यदि कोई व्यक्ति धन से संबंधित कोई भी परेशानी झेल रहा है, कर्ज, दरिद्रता, आदि की समस्या है या कोई धन पाने की इच्छा रखते हैं को उसके लिए महालक्ष्मी, कुबेर देव और भगवान विष्णु का पूजन करना चाहिए। ये सभी धन से जुडी समस्यायों को दूर करने में मदद करते हैं।

हर कार्य में असफलता मिलने पर

बहुत से लोग होते हैं जिन्हे कई प्रयासों और बहुत मेहनत करने के बाद भी सफलता नहीं मिलती और अगर मिलती भी है तो वो उनकी मेहनत के अनुसार नहीं होती ऐसे में आपको किसी भी कार्य की शुरुवात से पूर्व श्री गणेश भगवान का पूजन करना चाहिए। इससे आपको हर कार्य में सफलता मिलेगी।

भूत-प्रेत से डर

भूत-प्रेत या भय के डर से मुक्ति पाने के लिए हनुमान जी का पूजन करना अच्छा होता है। कहते हैं, हनुमान जी के पूजन से मनुष्य के सभी डर दूर हो जाते हैं और वह निडर होता है। इनके पूजन से बल और बुद्धि भी मिलती है।

वैवाहिक जीवन में परेशानी

अगर किसी दाम्पत्य का वैवाहिक जीवन अच्छा नहीं चल रहा है और पति पत्नी का रिश्ता तलाक तक पहुँच गया है, गृह कलेश बहुत ज्यादा होते हैं तो इस स्थिति में हनुमान जी की आराधना करनी चाहिए। कहते हैं श्री राम और माँ सीता का मिलन भी हनुमान जी ने ही कराया था। बजरंगबली के पूजन से वैवाहिक जीवन की सभी समस्याएं दूर होती हैं।

पढ़ाई में कमजोर के लिए

अगर कोई बच्चा पढ़ाई में कमजोर है, बहुत मेहनत करने के बाद भी मार्क्स नहीं मिलते, खूब पढ़ने के बाद भी कुछ याद नहीं रहता तो इसके लिए माँ सरस्वती की आराधना करनी चाहिए। उन्हें बुद्धि और विद्या की देवी कहा जाता है। इनके पूजन से बुद्धि बढ़ती है। इसके अलावा बल, बुद्धि और विद्या के लिए हनुमान जी और श्री गणेश का पूजन करना भी शुभ फलदायी होता है।

परेशानी के अनुसार करें ग्रह का पूजन

गरीब व्यक्ति से परेशानी

यदि आपके जीवन में किसी गरीब व्यक्ति के कारण परेशानियां हो रही हैं और आप चाहकर भी उस परेशानी से निकल नहीं पा रहे हैं तो इसके लिए शनि देव, राहू और केतु का पूजन करना चाहिए और उनसे जुडी वस्तुओं का दान करना चाहिए। इसके अलावा शनि की वक्र दृष्टि से बचने के लिए भी शनि देव का पूजन करना लाभकारी होता है।

भूमि से संबंधित

मकान, दूकान, भूमि, आदि से संबंधित हर प्रकार की परेशानी को दूर करने के लिए मंगल देव की आराधना करनी चाहिए। उन्हें भूमि का देव भी कहा जाता है इसलिए इनके पूजन से भूमि से जुड़ी परेशानियां दूर हो जाती हैं।

विवाह में देरी

विवाह में देरी या उससे संबंधित परेशानी होने पर बृहस्पति ग्रह का पूजन करना चाहिए। और उनसे संबंधित उपाय करने चाहिए। कहते हैं विवाह का करक बृहस्पति ग्रह होता है और विवाह संबंधी समस्यायों में उन्ही का पूजन करना चाहिए।

तो अब आप अच्छी तरह जान गए होंगे की किस मनोकामना के लिए किस देवी-देवता का पूजन करना चाहिए। यदि आप इस तरह से मनोकामना के अनुसार भगवान का पूजन करेंगे तो आप अपने जीवन की परेशानियों से मुक्ति पा सकेंगे।

About the author

Team Bhaktisatsang

भक्ति सत्संग वेबसाइट ईश्वरीय भक्ति में ओतप्रोत रहने वाले उन सभी मनुष्यो के लिए एक आध्यात्मिक यात्रा है, जिन्हे अपने निज जीवन में सदैव ईश्वर और ईश्वरत्व का एहसास रहा है और महाज्ञानियो द्वारा बतलाये गए सत के पथ पर चलने हेतु तत्पर है | यहाँ पधारने के लिए आप सभी महानुभावो को कोटि कोटि प्रणाम

क्या आपको हमारी पोस्ट पसंद आयी ?