कजरी तीज कि पौराणिक कथा

कजरी तीज – Kajli Teej

कजरी तीज के दिन विवाहित महिलाएं अपने पति की लंबी आयू के लिए व्रत रखती है और अविवाहित लड़कियां इस पर्व पर अच्छा वर पाने के लिए व्रत रखती हैं। इस दिन नीमड़ी माता की पूजा की जाती है. पूजन से पहले मिट्टी व गोबर से दीवार के सहारे एक तालाब जैसी आकृति बनाई जाती है. उसके पास नीम की टहनी को रोप देते हैं. तालाब में कच्चा दूध और जल डालते हैं. किनारे पर एक दीया जलाकर रखते हैं. थाली में नींबू, ककड़ी, केला, सेब, सत्तू, रोली, मौली, अक्षत आदि रखे जाते हैं. शाम के समय श्रृंगार के बाद नीमड़ी माता की पूजा की जाती है. इस दिन जौ, चने, चावल और गेंहूं के सत्तू बनाये जाते है। चंद्रमा की पूजा करने के बाद उपवास तोड़ते हैं।

कजरी तीज व्रत कथा – Kajli Teej Vrat Katha

कजरी तीज से जुड़ी कई कहानियां है जिन्हें कजरी तीज मनाने का कारण माना जाता हैं।

पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, कजली मध्य भारत में स्थित एक घने जंगल का नाम था जंगल के आस-पास का क्षेत्र राजा दादूरई द्वारा शासित था। वहाँ रहने वाले लोग अपने स्थान कजली के नाम पर गाने गाते थे ताकि उनकी जगह का नाम लोकप्रिय हो सकें।

कुछ समय पश्चात् राजा दादूरई का निधन हो गया, उनकी पत्नी रानी नागमती ने खुद को सती प्रथा में अर्पित कर दिया। इसके दुःख में कजली नामक जगह के लोगों ने रानी नागमती को सम्मानित करने के लिए राग कजरी मनाना शुरू कर दिया।

Read Also –

  1. जानिए क्यों और कैसे भगवान शिव हर मनोकामना पूरी करते है सावन के महीने मे
  2. रक्षा बंधन की पौराणिक कथा – Raksha Bandha Story
  3. सावन सोमवार व्रत की सही विधि और कथा – Sawan Somvar…
  4. हरियाली तीज – जानें श्रावणी तीज की व्रत कथा व पूजा…
  5. हरतालिका तीज व्रत, कथा एवं पूजा विधी

इसके अलावा, इस दिन को देवी पार्वती को सम्मानित करने और उनकी पूजा करने के लिए मनाया जाता है क्योंकि यह तीज अपने पति के लिए एक महिला (देवी पार्वती) की भक्ति और समर्पण को दर्शाती हैं।

देवी पार्वती भगवान् शिव से शादी करने की इच्छुक थी। शिव ने पार्वती से उनकी भक्ति साबित करने के लिए कहा। पार्वती ने शिव द्वारा स्वीकार करने से पहले, 108 साल एक तपस्या करके अपनी भक्ति साबित की।

भगवन शिव और पार्वती का दिव्य संघ भाद्रपद महीने के कृष्णा पक्ष के दौरान हुआ था। यही दिन कजरी तीज के रूप में जाना जाने लगा। इसलिए बड़ी तीज या kajari teej के दिन देवी पार्वती की पूजा करने के लिए बहुत शुभ माना जाता हैं।

इसलिए कजरी तीज मनाई जाती है। कजरी तीज मनाने की यह दो मुख्य कहानियां है जिनसे कजरी तीज की उत्पत्ति हुई। अब आप जान चुके है की kajari teej क्यों मनाते हैं।

Please Share This Post

Leave a comment