ज्योतिष ज्ञान

लाल किताब और ज्योतिष के अनुसार डर भागने के सर्वोत्तम उपाय और मंत्र यही है

लाल किताब के अनुसार डर भगाने के घरेलू उपाय 

दुनिया में ऐसे बहुत ही कम इंसान होते हैं जिन्हें डर नहीं लगता है। भले ही हम माने या न माने कि इस दुनिया में भूत, प्रेत, बाधा जैसी चीजें नहीं होती हैं पर समय-समय पर ये चीजें अपनी उपस्थिति का सबूत देती हैं जिससे आम इंसानों के बीच डर पैदा होता है। डर शारीरिक या भावनात्मक खतरे से सबंधित होता है। शारीरिक डर का सबंध किसी का सामना न करने की क्षमता न होने से होता है, वहीं भावनात्मक डर एक मनोवैज्ञानिक समस्या के कारण होता है।

डर लगना वैसे तो आम बात ही है पर आप अगर ज्यादा डरते हैं या आपको ऐसा लगता है कि आपको बुरे सपने आते हैं और आप घबरा जाते हैं, अंधेरे में जाने से डर लगता है तो यह उपाय आपके लिए ही हैं।

१. किसी भी प्रकार का भय हो तो हनुमान चालीसा का पाठ करें या अपनी आगे वाली जेब में हमेशा हनुमान चालीसा का गुटका अवश्य रखें|

२. हीरा या फिरोजा रतन यदि किसी भी रूप में शरीर पर धारण किया जाय तो किसी भी विषैले जंतु का भय नहीं रहता|

३. सूर्य उपासना के मध्य सूर्य देव को अर्ध्य देने से सभी प्रकार की चिंता बाधाएं दूर होती है तथा सुखद भाग्य के द्वार स्वतः ही खुलते चले जाते हैं|

४. सात शनिवार को सूर्यास्त पश्चात पीपल की जड़ में जल सींचने से अस्त्र शास्त्र का भय जाता रहता है|

५. यदि केवड़े की जड़ धारण की जाए तो शत्रु का भय नहीं रहता एवं मोर पंख घर में रखने से सांप का भय काम ही रहता है|

६. प्रतिदिन रात को सोते समय मुनिराज आस्तीक को बार-बार नमस्कार करने से भी सर्प भय नहीं रहता |

७. यदि कोई बालक सोते समय डर जाय या चौंकता हो तो उसके तकिये के नीचे उल्लू का पंख रख दें |

८. यदि दायीं भुजा पर आंवले की जड़ अश्लेषा नक्षत्र में धारण करी जाए तो मन के सभी भय समाप्त हो जाते है |

९. यदि आपके मन में अकारण भय और घबराहट बनी रहती हो अथवा सदैव मस्तिष्क में नकरात्मक विचारों का प्रवाह चलता रहता हो अथवा किसी-न – किसी रूप में आपको सदैव कोण-न-कोई डर लगा रहता हो तो दो शेर के नाख़ून मंगवाकर तथा उन्हें मंत्रसिद्ध चैतन्यवान एवं प्राण-प्रतिष्ठित करवाकर शुद्ध सोने के लॉकेट में सदैव के लिए अपने गले में धारण कर लें| इस प्रयोग को संपन्न करने के पश्चात आपका दिल अत्यधिक मजबूत हो जाएगा और कभी कोई भय नहीं सताएगा|

१०. जिन्हे भय ज्यादा लगता हो तो शुद्ध सोने के लॉकेट अथवा अंगूठी में टाइगर स्टोन धारण कर लेने से भय का नाश होने लग जाता है |

हम आपको यहां कुछ मंत्र भी बताने वाले हैं जिनका जाप पूरे विश्वास के साथ करने से आपका डर दूर होता है। पुराणों एवं प्राचीन ग्रंथों में इन मंत्रों को बड़ा महत्व दिया गया है।

1. हनुमान मंत्र के जाप से भागेगा डर

अगर आप हनुमानजी को अपना इष्टदेव मानते हैं और उनकी उपासना करते हैं तो आपके डर को भगाने के लिए हनुमान चालीसा का पाठ काफी लाभकारी होता है। ग्रंथों में लिखा गया है कि हनुमानजी के जाप से ही डर दूर हो जाते हैं। आप हनुमान चालीसा के अलावा नीचे दिया मंत्र हनुमानजी की प्रतिमा सामने बैठकर 108 बार जाप करें। यह आपके लिए लाभकारी होगा।

“॥ॐ एम ह्रीम हनुमते रामदूताए नमः॥”

2. गजेंद्र मोक्ष स्त्रोत

अपने भय को भगाने के लिए आप श्रीमद भागवत गीता से दिन में एक बार गजेंद्र मोक्ष स्त्रोत को सुन सकते हैं। नरसिंह उपनिषद में इस महान मंत्र, नरसिंह अनुष्ठान और प्रभु के सुदर्शन चक्र का विवरण भी दिया गया है। प्रभु के महान सुरक्षा चक्र से भय आदि से मुक्ति व स्वतंत्रता मिलती है।

“॥उग्रवीरं महाविष्णुं ज्वलन्तं सर्वतोमुखम्. नृसिंहं भीषणं भद्रं मृत्युमृत्युं नमाम्यहम् ॥”

3.महामृत्युञ्जय मन्त्र 

बहुत सारे इंसानों को इस बात का भय रहता है कि उनकी मौत कभी भी असमय हो सकती है। उन्हें किसी के बोलने पर ये लगने लगता है कि अब कभी भी उनकी मौत हो सकती है। महामृत्युञ्जय मंत्र का जाप करके आप भी मौत के डर को जीत सकते हैं।

ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्।
उर्वारुकमिव बन्धनान् मृत्योर्मुक्षीय मामृतात्॥

4. मां दुर्गा की स्तुति

मां दुर्गा को शक्ति की देवी कहा जाता है और इनसे हर डर दूर भागता है। आप मां दुर्गा की स्तुति करके अपने डर को दूर भगा सकते हैं। विश्व से अशुभ तथा भय का विनाश करने के लिए मां दुर्गा की स्तुति करना चाहिए।

यस्याः प्रभावमतुलं भगवाननन्तो ब्रह्मा हरश्च न हि वक्तमलं बलं च |
सा चण्डिकाखिलजगत्परिपालनाय नाशाय चाशुभभयस्य मतिं करोतु ॥

5. भगवान गणेश मंत्र

ये मंत्र भगवान गणेश को समर्पित है. ये मंत्र भक्त साहस को बहाल करने और उनके मन को निडर बनाने के लिए करते हैं.

“॥ ऊँ गतभिये नमः ओम गहता – भियए नमः॥

About the author

Team Bhaktisatsang

भक्ति सत्संग वेबसाइट ईश्वरीय भक्ति में ओतप्रोत रहने वाले उन सभी मनुष्यो के लिए एक आध्यात्मिक यात्रा है, जिन्हे अपने निज जीवन में सदैव ईश्वर और ईश्वरत्व का एहसास रहा है और महाज्ञानियो द्वारा बतलाये गए सत के पथ पर चलने हेतु तत्पर है | यहाँ पधारने के लिए आप सभी महानुभावो को कोटि कोटि प्रणाम

3 Comments

क्या आपको हमारी पोस्ट पसंद आयी ?

Copy Paste blocker plugin by jaspreetchahal.org