Yogini Ekadashi Vrat – योगिनी एकादशी व्रत 2021

Yogini Ekadashi Vrat Katha  2021 योगिनी एकादशी व्रत 2021

योगिनी एकादशी के दिन भगवान श्री नारायण की पूजा-आराधना की जाती है। श्री नारायण भगवान विष्णु का ही नाम है। इस एकादशी का व्रत करने से समस्त पाप नष्ट हो जाते हैं और पीपल के वृक्ष को काटने जैसे पाप तक से मुक्ति मिल जाती है। इस व्रत के प्रभाव से किसी के दिये हुए श्राप का निवारण भी हो जाता है। यह एकादशी देह की समस्त आधि-व्याधियों को नष्ट कर सुंदर रुप, गुण और यश देने वाली होती है।

योगिनी एकादशी का महत्व – Yogini Ekadashi Vrat 2021

योगिनी एकादशी का व्रत करने से जीवन में समृद्धि और आनन्द की प्राप्ति होती है। यह व्रत तीनों लोकों में प्रसिद्ध है। मान्यता है कि योगिनी एकादशी का व्रत करने से 88 हज़ार ब्राह्मणों को भोजन कराने के बराबर पुण्य मिलता है।

योगिनी एकादशी व्रत मुहूर्त – Yogini Ekadashi Vrat Muhurat

  • योगिनी एकादशी : सोमवार, जुलाई 5, 2021 को है
  • योगिनी तिथि आरंभ : 04 जुलाई, 2021 07:55 PM.
  • योगिनी तिथि समाप्त : 05 जुलाई, 2021 10:30 PM.
  • पारण का समय : 05:28:30 से 08:15:22 तक 6, जुलाई को

एकादशी व्रत नियम – Yogini Ekadashi 2021

  • एकादशी के दिन सुबह उठकर व्रत का संकल्प कर शुद्ध जल से स्नान करना चाहिए।
  • विधिनुसार भगवान श्रीकृष्ण का पूजन और रात को दीपदान करना चाहिए।
  • एकादशी की रात भगवान विष्णु का भजन-कीर्तन करना चाहिए।
  • व्रत की समाप्ति पर श्री हरि विष्णु से अनजाने में हुई भूल या पाप के लिए क्षमा मांगनी चाहिए।
  • अगली सुबह यानी द्वादशी तिथि पर पुनः भगवान श्रीकृष्ण की पूजा कर ब्राह्मण को भोजन कराना चाहिए।
  • भोजन के बाद ब्राह्मण को क्षमता के अनुसार दान देकर विदा करना चाहिए।

यह भी पढ़े –

Please Share This Post

Leave a comment