पौराणिक कथाएं

श्रीरामचंद्र जी की अयोध्या वापसी

ramchandra-ayodhya-375x195

श्रीरामचंद्र जी की अयोध्या वापसी | Ramchandra Ayodhya

जब श्रीरामचंद्र जी लंका से वापस आए तो इसी अमावस्या को उनका राजतिलक किया गया था। अयोध्या के राजा दशरथ के चार पुत्र थे- राम, लक्ष्मण, भरत और शत्रुघ्न। श्रीराम को उनकी माता कैकेयी की माँग पर राजा ने १४ वर्ष का वनवास दिया।

पिता की आज्ञा शिरोधार्य कर श्रीराम ने अपने भाई लक्ष्मण तथा पत्नी श्रीसीता सहित वनवास ग्रहण किया। वन मेंरावण नामक महा शक्तिशाली राक्षसराज ने जानकी जी का हरण कर लिया। श्रीराम जी भाई लक्ष्मण सहित किष्किंधापहुँचे और सुग्रीव की सहायता से बजरंग बली हनुमान द्वारा सीता जी की खोज करवाई।

सीता जी का पता चलने पर प्रभुश्रीराम ने वानर-भालुओं की सेना तैयार की और लंका की ओर प्रस्थान किया। समुद्र पर पुल बाँध वे लंका में प्रवेश कियाऔर कुंभकर्ण, मेघनाद, रावण आदि का संहार हुआ।

श्रीराम ने लंका का राज्य जीतकर रावण के भाई विभीषण को दे दियाऔर स्वयं चौदह वर्ष पूरे हो जाने पर भगवती सीता, लक्ष्मण, हनुमान, सुग्रीव, जांबवान, अंगद आदि के साथ पुष्पकविमान पर बैठकर अयोध्या वापस लौटे। उनके वापस लौटने की खुशी में अयोध्या वासियों ने घी के दीये जलाए औरदीपावली मनाई।

About the author

Team Bhaktisatsang

भक्ति सत्संग वेबसाइट ईश्वरीय भक्ति में ओतप्रोत रहने वाले उन सभी मनुष्यो के लिए एक आध्यात्मिक यात्रा है, जिन्हे अपने निज जीवन में सदैव ईश्वर और ईश्वरत्व का एहसास रहा है और महाज्ञानियो द्वारा बतलाये गए सत के पथ पर चलने हेतु तत्पर है | यहाँ पधारने के लिए आप सभी महानुभावो को कोटि कोटि प्रणाम

1 Comment

क्या आपको हमारी पोस्ट पसंद आयी ?